वामपंथी बुद्धिजीवियों की कुतर्क करने की आदत

भारत के वामपंथी बुद्धिजीवियों की कुतर्क करने की आदत का एक छोटा सा उदाहरण - अगर आप उससे देश में हिन्दुओं के अधिकारों का रोना रोएं तो वो कहेगा - अरे नहीं, नहीं !!! हिन्दू "बहुसंख्यक" हैं, ८०% हैं, मेजोरिटी में हैं इत्यादि - - // पर जब आप कहेंगे कि हिन्दू बहुसंख्यक हैं तो वो कहेगा //- - नहीं, नहीं !!! आदिवासी हिन्दू नहीं हैं, एससी दलित (१५%) हिन्दू नहीं है, दक्षिण भारतीय हिन्दू नहीं है वो भारत के मूल निवासी है, मुसलमान हिन्दू नहीं थे, अरब से आये, पूर्वोत्तर भारतीय हिन्दू नहीं है, हिन्दू तो मुश्किल से भारत की जनसँख्या का २०-२५%, बस !!! - - - इसलिए भारतीय वामपंथी कुतर्कियों से सावधान - जहाँ मिले या तो इग्नोर करो या फिर जम कर इनका इनका ऐसा उपहास करें कि वो कभी आपसे कुतर्क न करने की कोशिश करे।